Moh… Sumitranandan Pant :-)

छोड़ द्रुमों की मृदु-छाया,
तोड़ प्रकृति से भी माया,
बाले! तेरे बाल-जाल में कैसे उलझा दूँ लोचन?
भूल अभी से इस जग को!
तज कर तरल-तरंगों को,
इन्द्र-धनुष के रंगों को,
तेरे भ्रू-भंगों से कैसे बिंधवा दूँ निज मृग-सा मन?
भूल अभी से इस जग को!
कोयल का वह कोमल-बोल,
मधुकर की वीणा अनमोल,
कह, तब तेरे ही प्रिय-स्वर से कैसे भर लूँ सजनि! श्रवन?
भूल अभी से इस जग को!
ऊषा-सस्मित किसलय-दल,
सुधा रश्मि से उतरा जल,
ना, अधरामृत ही के मद में कैसे बहला दूँ जीवन?
भूल अभी से इस जग को!

Advertisements

Once More

Seeking My Utopia

Employing every ounce of air Within,
a Bellow to gather and Play,
Before a web was designed to Begin,
a count on friendship for Display.
Let Me Grow Up Once More

When rain was an Opportunity,
to create the storms for paper Boats,
Until the mind shadowed nature’s Beauty,
with swarms of worldly Anecdotes.
Let Me Bask In Nature Once More

The conflict between good and Evil,
resolved merely by action Figures,
Reality stirred a devious Upheaval,
the battle between Power Diggers.
Let Me Balance My World Once More

The excitement of long pants and a ballpoint Pen,
muddy hands and castles of Sand,
A new universe building in my Mind’s Den,
possessing the ability to make the ordinary, Grand.

Let Me Hop Skip and Jump back,
to Live My Innocence Once More

Notice the smile on your face and the sparkle in your eyes when you relive your fond…

View original post 84 more words

Dhanyawaad, Aggyey! :-)

नया कवि : आत्म-स्वीकार 

किसी का सत्य था,
मैंने संदर्भ से जोड़ दिया।
कोई मधु-कोष काट लाया था,
मैंने निचोड़ लिया।
किसी की उक्ति में गरिमा थी,
मैंने उसे थोड़ा-सा सँवार दिया
किसी की संवेदना में आग का-सा ताप था
मैंने दूर हटते-हटते उसे धिक्कार दिया।
कोई हुनरमंद था :
मैंने देखा और कहा, ‘यों!’
थका भारवाही पाया-
घुड़का या कोंच दिया, ‘क्यों?’
किसी की पौध थी,
मैंने सींची और बढ़ने पर अपना ली,
किसी की लगायी लता थी,
मैंने दो बल्ली गाड़ उसी पर छवा ली
किसी की कली थी :
मैंने अनदेखे में बीन ली,
किसी की बात थी।
मैंने मुँह से छीन ली।
यों मैं कवि हूँ, आधुनिक हूँ, नया हूँ :
काव्य-तत्त्व की खोज में कहाँ नहीं गया हूँ?
चाहता हूँ आप मुझे
एक-एक शब्द सराहते हुए पढ़ें।
पर प्रतिमा- अरे वह तो
जैसी आपको रुचे आप स्वयं गढ़ें।